किसान आंदोलन: राहुल बोले-चाल रैली से हो रही सरकार को शर्मिंदगी, किसानों की शहादत से नहीं

0
9


यूपी गेट साइकिल से पहुंचे किसान
– फोटो: अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनकर

राहुल गांधी का केंद्र की मोदी सरकार पर हमला
किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि 60 से ज्यादा अन्नदाता की शहादत से मोदी सरकार शर्मिंदा नहीं हुई, लेकिन इस रैली में उनसे शर्मिंदगी हो रही है!

‘पुराने बिल इतने अच्छे होते हैं तो किसानवाद और आत्महत्या के लिए मजबूर नहीं होते’
कैलाश चौधरी ने कहा कि पुराने बिल इतने अच्छे होते हैं तो किसानवादी और आत्महत्या के लिए मजबूर नहीं होते। इस कानून को कुछ समय देखें अगर कुछ नहीं लगेगा तो भविष्य में और भी संशोधन किया जा सकता है

‘जो कमेटी बनाई गई है निश्चित रूप से आने वाले समय में सबसे निष्पक्ष राय लेगी’
केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हम स्वागत करते हैं। जो कमेटी बनाई गई है वह निश्चित रूप से आने वाले समय में सबसे निष्पक्ष राय लेगी। कमेटी किसान यूनियन के लोगों से और अन्य विशेषज्ञों से भी राय लेगी और उसके बाद निर्णय करेंगे।

किसानों का प्रदर्शन जारी
कृषि कानूनों के खिलाफ टिकारी बॉर्डर पर किसानों का विरोध-प्रदर्शन आज 49 वें दिन भी जारी है।

आज कृषि कानूनों की प्रति जलाएंगे किसान
कृषि कानूनों की वापसी और एमएसपी पर कानून बनाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसान आज देश भर में लोहड़ी पर कृषि कानूनों की प्रतिएपांजेंगे। यूपी गेट पर किसानों की तरफ से कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। यूपी गेट पर तीन कृषि कानूनों की वापसी और एमएसपी पर कानून बनाने की मांग को लेकर किसान 49 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। किसानों की तरफ से लगातार कृषि कानूनों का विरोध किया जा रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को किसान लोहड़ी की अग्नि में तीनों कानूनों की प्रति को जलाकर विरोध जताएंगे। यूपी गेट पर शाम साढ़े पांच बजे कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। मंच के पास लोहड़ी जलाई जाएगी।

18 को मनाया जाएगा महिला किसान दिवस
18 जनवरी को यूपी गेट पर किसान महिला किसान दिवस मनाएंगे। इस दिन मंच की बागडोर महिला किसानों के हाथ में होगी। किसान संगठनों की माने तो 17 जनवरी से महिला किसान आंदोलन स्थल पर पहुंचने वाले हैंगी। उनकी प्रोग्रामिंग की व्यवस्था की जा रही है। किसान महिलाओं को रुकने के लिए अलग से कैंप तैयार करेंगे। इसके साथ ही महिला वालेंटियर को महिलाओं को हर तरह की सुविधा मुहैया कराने के लिए तैनात किया जाएगा। महिला कैंप के आसपास पुरुषों का आना जाना प्रतिबंधित रहेगा।

किसान 26 जनवरी की शुरुआत की तैयारी कर रहे हैं
26 जनवरी को दिल्ली में होने वाली परेड में शामिल होने की तैयारी जोरों पर चल रही है। मंगलवार को युवा किसानों ने आगे तिरंगा बनाए टी शर्ट पहनकर ट्रैक्टर चलाकर रिहर्सल किया। दिनभर युवाओं ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर ट्रैक्टर चलाकर रिहर्सल किया। युवा किसानों का कहना है कि सभी किसान 26 जनवरी को ऐसी टी शर्ट पहनते हैं जिस पर आगे तिरंगा बना हुआ होगा।

सार

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का विरोध प्रदर्शन 49 वें दिन भी जारी है। सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों को अमल में लाने पर रोक लगा दी है। साथ ही एक कमेटी का गठन किया गया है, लेकिन किसानों ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनाए गए इस फैसले को सिरे से नकार दिया। किसानों ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के की ओर से बनाई गई समिति के समक्ष किसी कार्रवाई में हिस्सा नहीं लेना चाहते हैं। किसान आज कृषि कानूनों की प्रति जलाएंगे। वहीं, बुधवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर जमकर हमला बोला। किसान आंदोलन से जुड़े पल-पल की अपडेट …

विस्तार

राहुल गांधी का केंद्र की मोदी सरकार पर हमला

किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि 60 से ज्यादा अन्नदाता की शहादत से मोदी सरकार शर्मिंदा नहीं हुई, लेकिन इस रैली में उनसे शर्मिंदगी हो रही है!

‘पुराने बिल इतने अच्छे होते हैं तो किसानवाद और आत्महत्या के लिए मजबूर नहीं होते’

कैलाश चौधरी ने कहा कि पुराने बिल इतने अच्छे होते हैं तो किसानवादी और आत्महत्या के लिए मजबूर नहीं होते। इस कानून को कुछ समय देखें अगर कुछ नहीं लगेगा तो भविष्य में और भी संशोधन किया जा सकता है

‘जो कमेटी बनाई गई है निश्चित रूप से आने वाले समय में सबसे निष्पक्ष राय लेगी’

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हम स्वागत करते हैं। जो कमेटी बनाई गई है वह निश्चित रूप से आने वाले समय में सबसे निष्पक्ष राय लेगी। कमेटी किसान यूनियन के लोगों से और अन्य विशेषज्ञों से भी राय लेगी और उसके बाद निर्णय करेंगे।

किसानों का प्रदर्शन जारी

कृषि कानूनों के खिलाफ टिकारी बॉर्डर पर किसानों का विरोध-प्रदर्शन आज 49 वें दिन भी जारी है।

आज कृषि कानूनों की प्रति जलाएंगे किसान

कृषि कानूनों की वापसी और एमएसपी पर कानून बनाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसान आज देश भर में लोहड़ी पर कृषि कानूनों की प्रतिएपांजेंगे। यूपी गेट पर किसानों की तरफ से कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। यूपी गेट पर तीन कृषि कानूनों की वापसी और एमएसपी पर कानून बनाने की मांग को लेकर किसान 49 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। किसानों की तरफ से लगातार कृषि कानूनों का विरोध किया जा रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को किसान लोहड़ी की अग्नि में तीनों कानूनों की प्रति को जलाकर विरोध जताएंगे। यूपी गेट पर शाम साढ़े पांच बजे कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। मंच के पास लोहड़ी जलाई जाएगी।

18 को मनाया जाएगा महिला किसान दिवस

18 जनवरी को यूपी गेट पर किसान महिला किसान दिवस मनाएंगे। इस दिन मंच की बागडोर महिला किसानों के हाथ में होगी। किसान संगठनों की माने तो 17 जनवरी से महिला किसान आंदोलन स्थल पर पहुंचने वाले हैंगी। उनकी प्रोग्रामिंग की व्यवस्था की जा रही है। किसान महिलाओं को रुकने के लिए अलग से कैंप तैयार करेंगे। इसके साथ ही महिला वालेंटियर को महिलाओं को हर तरह की सुविधा मुहैया कराने के लिए तैनात किया जाएगा। महिला कैंप के आसपास पुरुषों का आना जाना प्रतिबंधित रहेगा।

किसान 26 जनवरी की शुरुआत की तैयारी कर रहे हैं

26 जनवरी को दिल्ली में होने वाली परेड में शामिल होने की तैयारी जोरों पर चल रही है। मंगलवार को युवा किसानों ने आगे तिरंगा बनाए टी शर्ट पहनकर ट्रैक्टर चलाकर रिहर्सल किया। दिनभर युवाओं ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर ट्रैक्टर चलाकर रिहर्सल किया। युवा किसानों का कहना है कि सभी किसान 26 जनवरी को ऐसी टी शर्ट पहनते हैं जिस पर आगे तिरंगा बना हुआ होगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here