चाणक्य नीति: पति-पत्नी के बीच ये 5 बातें ही उठती हैं प्यार, आप भी जानिए सुखद वैवाहिक जीवन का राज

0
24


आचार्य चाणक्य के अनुसार पति-पत्नी किसी गाड़ी के दो पहिए जैसे होते हैं। अगर एक कमजोर पड़ जाए तो परिवार का बस्ताने लगता है। परिवार में आपसी सौहार्द कम होने लगता है और आपसी कलह शुरू हो जाती है। चाणक्य का मानना ​​है कि परिवार की सुख-शांति पति-पत्नी के मधुर रिश्तों पर टिकी होती है। अगर इस रिश्ते में खटास आ जाए तो कई मुश्किलें जन्म लेने लगती हैं।

चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी को इस रिश्ते में कुछ बातों को हमेशा गंभीरता से लेना चाहिए। कहते हैं कि जिस घर में पति-पत्नी के बीच आपसी तालमेल नहीं होता है, वहां मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है। ऐसे में पति-पत्नी को इन बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए-

1. प्रेम में न आने दो कमी- चाणक्य कहते हैं कि मकान को घर बनाने की पहली शर्त प्रेम होती है। कहते हैं कि जब पति-पत्नी के बीच खूब प्रेम होचा है तो घर खुशियों से भरा रहता है।

विदुर निती: ऐसे लोगों पर महादेव की हमेशा बनी हुई कृपा है, हर मुश्किल हो जाती है

3. रिश्तों में न आने वाली दूरी– चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी के रिश्ते में दूरी नहीं आने देनी चाहिए। दोनों को एक साथ ज्यादा से ज्यादा समय ठहराने की कोशिश करनी चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि जब पति-पत्नी के बीच आपसी तालमेल बन जाता है तो वह एक-दूसरे को और बेहतर तरीके से आगे बढ़ने लगता है।

4. जरूरतों को न करें अनदेखा- चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी अच्छे दोस्त भी होते हैं। इसलिए दोनों को एक-दूसरे की अच्छी और बुरी चीजों का ध्यान रखना चाहिए। किसी की भी जरूरत को अनदेखा नहीं करना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से संबंध मजबूत होता है।

चाणक्य नीति: पति-पत्नी को हमेशा इन 3 बातों का ध्यान रखना चाहिए, रिश्ते में नहीं आता है

5. प्रतिस्पर्धा की भावना से दूर रहें- चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी के बीच प्रतिस्पर्धा की भावना नहीं होनी चाहिए। पति-पत्नी एक-दूसरे से अलग नहीं होते हैं। किसी भी काम को मिलकर करने वाले दंपति की सराहना के योग्य बनते हैं।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here