चाणक्य नीति: पति-पत्नी को हमेशा इन 3 बातों का ध्यान रखना चाहिए, रिश्ते में नहीं आता है

0
16


आचार्य चाणक्य का नाम बुद्धजीवियों में गिना जाता है। चाणक्य शास्त्र के साथ समाजशास्त्र, राजनीति शास्त्र, कूटनीति शास्त्र का भी ज्ञान था। चाणक्य ने नीति शास्त्र में धन, तरक्की, व्यापार, पति-पत्नी और शिक्षा सहित जीवन के कई पहुलुओं का जिक्र किया है।]चाणक्य ने नीति शास्त्र में पति-पत्नी के संबंध को समझाने की कोशिश की की है। चाणक्य के अनुसार, पति-पत्नी का रिश्ता निर्भर, सम्मान और प्यार पर टिका होता है। इसलिए इस संबंध में कुछ बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। जानिए इन बातों के बारे में-

1. प्यार का महत्व जानें-

चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी के रिश्ते की पहली शर्त प्यार होती है। जिस रिश्ते में प्यार नहीं होता है, वह जल्द ही टूट जाता है। जो रिश्ता प्रेम की डोरी से बंधे होते हैं, वह लंबे समय तक टिकते हैं। चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी के रिश्ते में कभी प्रेम की कमी नहीं होनी चाहिए। प्रेम विश्वास से आता है। इसलिए पति-पत्नी को हमेशा एक-दूसरे के लिए समर्पित रहना चाहिए।

शनि अस्त 2021: 14 फरवरी तक मकर राशि में अस्त रहेगा शनि, जानिए राशियों को होगा लाभ और कौन करेगा सावधान

आज पौष पुत्रदा एकादशी, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, व्रत कथा और संतान प्राप्ति के लिए यह काम करें

2. भरोसे को न होने दें कम

चाणक्य के अनुसार, वैवाहिक जीवन में भरोसे की बहुत बड़ी कीमत होती है। विश्वास में कमी आने पर वैवाहिक जीवन में तेजी आती है। इसलिए इस संबंध को बनाए रखने के लिए हमेशा कोशिश करते रहना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि विश्वास से दांपत्य जीवन सुखी होता है।

3. मान-सम्मान का ध्यान रखें-

चाणक्य कहते हैं कि दांपत्य जीवन में मान-सम्मान का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। नीति शास्त्र के अनुसार, जिस रिश्ते में भावनाओं और सम्मान की कमी होती है, उस रिश्ते में कोई न कोई कमी बनी रहती है। इसलिए पति-पत्नी के संबंध में भावनाओं और सम्मान का हमेशा ध्यान रखना चाहिए।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here